रामायण में राम व रावण का नाम मुख्य है। रावण एक महाज्ञानी व महाशक्तिशाली योद्धा था। इसके साथ ही साथ रावण शिव जी का परम भक्त था। परंतु उसके अहंकार ने उसे विनाश के द्वार पर लाकर खड़ा कर दिया। श्री राम जी जब माता सीता व लक्ष्मण जी के साथ वनवास को गए थे उसी समय रावण ने माता सीता का अपहरण कर लिया था। जिसकी वजह से राम के हाथों उसका वध हुआ। प्रायः हम सब यही जानते हैं कि रावण का विनाश माता सीता की वजह से हुआ। परंतु जानकारी के लिए आपको बता दें कि रावण के विनाश के पीछे केवल सीता माता का ही हाथ नहीं था अपितु तीन अन्य स्त्रियां भी थी जो रावण के विनाश का कारण बनी।

आइए जानते हैं वह स्त्रियां सी है-

1. माया– यह रावण की पत्नी मंदोदरी की बहन है। पौराणिक कथा के अनुसार रावण में छल से माया का पतिव्रता धर्म भंग किया था। तब माया ने रावण को श्राप दिया था कि किसी स्त्री की भी वजह से उसका विनाश होगा।

2. रंभा– रंभा स्वर्ग की एक अप्सरा थी। जब रावण ने स्वर्ग पर विजय प्राप्त किया था तब, उसकी नजर खूबसूरत रंभा पर पड़ी थी। रंभा की तरफ आकर्षित होकर रावण ने उसके साथ दुर्व्यवहार किया था। इस बात की खबर जब नल कुबेर को मिली तो उन्होंने रावण को यह शाप दिया कि भविष्य में यदि वह किसी स्त्री को स्पर्श भी करेगा तो उसका विनाश हो जाएगा।

3. सूर्पनखा– रावण के विनाश की वजह बनी तीसरी स्त्री, खुद रावण की बहन ही थी। ऐसा बताया जाता है कि रावण ने अपनी बहन सुपनखा के पति विद्युतजिव्ह का वध किया था। जब सूर्पनखा को इस बारे में पता चला तो उसने रावण को शाप दिया था कि मेरे ही कारण तेरा सर्वनाश होगा। और हुआ भी यही क्योंकि शूर्पनखा की वजह से ही, रावण ने सीता का हरण करने का दुस्साहस किया था। और रावण का यही दुस्साहस उसकी मौत का कारण बना।

ये भी पढ़िए-

1. अगर चाहते हैं कि आपके घर में भी होती रहे धन की वर्षा, तो कर ले तुलसी के पौधे से जुड़ा यह छोटा सा उपाय

2. क्या है नंदी के कान में अपनी इच्छाओं को बताने के पीछे की पौराणिक कथा, कौन से लाभ की प्राप्ति होती है इससे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here