भारतीय चंद्रयान 2 मिशन को लगा एक बड़ा झटका। आज सुबह जब देश की करोड़ों जनता की निगाहें चंद्रयान 2 पर टिकी हुई थी, और इतिहास रचने ही वाला था, तभी chandrayaan-2 के विक्रम लैंडर से संपर्क टूट गया। इस घटना से करोड़ों भारतीयों को गहरा झटका लगा।

22 जुलाई को लांच किए गए chandrayaan-2 ने 47 दिनों की सफलता पूर्ण यात्रा के बाद विक्रम लैंडर का संपर्क इसरो से टूट गया। बताया जा रहा है कि जब विक्रम नगर का संपर्क शुरू से टूटा था तो वह लैंडिंग से मात्र 2.1 किलोमीटर की दूरी पर था।

इसरो ने दी यह प्रतिक्रिया-

इस मामले में इसरो का कहना है कि इस मिशन की शुरुआत से जांच करने के बाद ही कुछ निष्कर्ष निकाला जा सकता है। इसरो के साइंटिस्ट देवी प्रसाद कार्मिक के मुताबिक- “डेटा का विश्लेषण किया जा रहा है। हमारे पास अभी तक कोई रिजल्ट नहीं है।इसमें समय लगता है। हम पक्के तौर पर नहीं कह सकते।”

विक्रम लैंडिंग के संपर्क टूटने की क्या वजह है इसका पता अभी साइंटिस्ट नहीं लगा पाए हैं। आपको बता दें कि अभी तक सिर्फ रूस, अमेरिका और चीन देश ने चंद्रमा पर सफलतापूर्वक सॉफ्ट लैंडिंग की है। परंतु जहां पर chandrayaan-2 को

परंतु जहां पर chandrayaan-2 को उतरना था उस साउथ पोल पर अभी तक कोई भी देश नहीं पहुंच पाया है। ऐसे में अगर chandrayaan-2 की सॉफ्ट लैंडिंग यहां पर हो जाती, तो यह देश के लिए ऐतिहासिक पल होता। परंतु विक्रम लेंडर से संपर्क टूटने के बाद यह संभव नहीं हो पाया।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना पर बयान दिया है कि-

“जब मिशन बड़ा होता है, तो निराशा से पार पाने की हिम्मत होनी चाहिए। मेरी तरफ से आप सभी को बहुत बधाई। आपने देश की और मानव जाति की बड़ी सेवा की है।”

यह भी पढ़िए-

1. देखिए अंतरिक्ष से कैसी दिखती है हमारी पृथ्वी, chandrayaan-2 ने ली तस्वीरे

2. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर ब्रिटिश सांसद ने किया विवादित ट्वीट, लिखा कि- अरुण जेटली, सुषमा स्वराज……

मोदी जी के अलावा भी कई बड़े नेताओं ने इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here