सोमवार 2 सितंबर को गणेश चतुर्थी का शुभ अवसर है। स्किन गणेश जी की स्थापना की जाती है, जिसके बाद 10 दिनों तक विधि पूर्वक इनकी पूजा की जाती है और ग्यारहवें दिन इनका विसर्जन किया जाता है। इन दिनों को गणेश उत्सव के नाम से नाम जाना जाता है।

गणेश उत्सव को बहुत ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है। और ऐसी मान्यता होती की विधि पूर्वक गणेश जी की पूजा करने से गणेश जी प्रसन्न होते हैं और सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। कुछ लोग अपने घर में भी गणेश जी की मूर्ति की स्थापना करते हैं।

उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पंडित मनीष शर्मा के अनुसार, जो भी भक्त घर में गणेश जी की मूर्ति की स्थापना करते हैं, उन्हें इस दौरान कुछ कार्यों को करने से बचना चाहिए।

आइए जानते हैं वह कौन से कार्य हैं जिन्हें करने से बचना चाहिए-

1. घर में शांति का माहौल रखना चाहिए और कलह करने से बचना चाहिए। जिन घरों में कला का वातावरण होता है वहां पर भगवान कभी वास नहीं करते हैं।

2. शास्त्रों के अनुसार गणेश जी की पूजा में तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। आता जब गणेश जी की पूजा कर रहे हो तो तुलसी के पत्तों का इस्तेमाल करने से बचे।

3. गणेश जी की पीठ के दर्शन करने की गलती नहीं करनी चाहिए। शास्त्रों के मुताबिक गणेश जी के पीठ का दर्शन करने से घर में दरिद्रता का वास होता है।

ये भी पढ़िए-

1. इस बार गणेश चतुर्थी पर बन रहा है महासंयोग, जाने क्या है गणेश स्थापना का शुभ मुहूर्त

2. हरतालिका तीज के दिन महिलाओं को भूलकर भी नहीं करने चाहिए ये काम

4. घर में यदि गणेश जी की स्थापना की है तो उस दौरान तामसिक भोजन करने से बचना चाहिए। किसी भी प्रकार का व्यसन नहीं करना चाहिए। शुद्ध शाकाहारी भोजन का सेवन करना चाहिए।


5. इस दौरान सूर्योदय के बाद सोने से बचे, एवं कोशिश करनी चाहिए कि सूर्योदय से पहले बिस्तर का त्याग कर दे। एवं सायंकाल के समय सोने से बचे।

6. अधार्मिक कार्यों से दूर रहना चाहिए। तथा जो लोग अधार्मिक कार्य करते हैं उनसे भी दूरी बनाकर रखनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here