दरअसल ये मामला मध्यप्रदेश का है। वहां के थांदला तहसील के खजूरी गांव के निवासी दीपक सोलंकी बीज निगम में पदस्थ हैं। उनकी शादी हो चुकी है और उनकी पत्नी को नेचर फोटोग्राफी का बेहद शौक है।

दीपक अपनी पत्नी, मां और बेटी के साथ पावागढ़ आए थे। उन्होंने यहां के मंदिर में अपनी बेटी के लिए मन्नत मांगी थी। पहले उन्होंने भद्रकाली मंदिर में दर्शन किए और लड्डुओं का भोग लगाया उसके बाद पावागढ़ की ऊंची पहाड़ियों पर घूमने के लिए चले गए।

दीपक ने बताया कि उनकी पत्नी को नेचर फोटोग्राफी का बेहद शौक है। उनकी पत्नी ने पहाड़ी पर बहते झरने को जब देखा तो उन्होंने अपने पति दीपक से उनकी एक फोटो खींचने की ज़िद की। दीपक मना नहीं कर पाए और उनकी पत्नी ने कहा कि फोटो ऐसे लें कि उसमें झरना ज़रूर आए।

ये भी पढ़िए-

1. एक तस्वीर खिंचवाने की इतनी बड़ी सजा, नव विवाहिता के साथ हुआ यह हादसा

2. एक सेल्फी ने कैसे खत्म कर दी इस प्रोफेसर के पूरे परिवार की जिंदगी

उनकी पत्नी पहाड़ी के किनारे पर खड़ी हो गयी और दीपक फोटो क्लिक करने लगे। फोटो खिंचवाने की चक्कर मे महिला अपना संतुलन ही खो बैठी और झरने में जा गिरी। दीपक ने घबराकर वहां मौजूद लोगों से मदद की गुहार लगाई और फिर रेसक्यू टीम ने उनकी पत्नी को सही सलामत बाहर निकाला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here