आपने अक्सर देखा होगा कि खाना बनाने और खाना रखने के लिए अलग-अलग धातुओं के बर्तनों का प्रयोग किया जाता हैं| और ऐसा देखकर आपके मन में सवाल भी आया होगा कि ऐसा क्यों किया जाता हैं| आपको बता दें कि प्रत्येक धातु का अपना अलग महत्व हैं|

आज हम आपको कुछ ऐसी धातुओं के गुण और उनका मानव शरीर के विकास में योगदान के बारे में बताएँगे जिनका अक्सर खाना बनाने के बर्तनों में प्रयोग किया जाता हैं|

Related image

पीतल-  पीतल के बर्तनों का प्रयोग अपने पूर्वजों द्वारा अधिक किया जाता था| अभी भी पीतल के बर्तनों का पानी पीने और खाना बनाने में किया जाता हैं लेकिन पहले की तुलना में अब काफी कम हो गया हैं| पीतल नमक और अम्ल के साथ क्रिया करता है, इसलिए खट्टी चीजों का या अधिक नमक वाली चीजों को इसमें नहीं रखना चाहिए|

एल्युमीनियम- एल्युमीनियम का प्रयोग अधिकांश घरों में किया जाता हैं| आपको बता दें कि एल्युमीनियम जल्दी गर्म और ठंडा भी जल्दी होता है जिस कारण से खाना बनाने में कम ऊष्मा का प्रयोग होता हैं लेकिन एल्युमीनियम के बर्तन भी शरीर के लिए काफी नुकशानदायक हैं|

Image result for cooking bartan imagesस्टेनलेस स्टील- आज के समय में सबसे ज्यादा चलन स्टील के बर्तनों का हैं| किसी भी रसोईघर में आपको सबसे ज्यादा बर्तन स्टील के ही मिलेंगे| यह एक मिश्र‍ित धातु है जो लोहे में कार्बन, क्रोमियम और निकल मिलाकर बनाई जाती है। इसमें खाना पकाने या बनाने में सेहत को कोई नुकसान नहीं होता और बर्तनों का तापमान भी बहुत जल्दी बढ़ता है।

लोहा- खाना बनाने के लिए लोहे के बर्तनों का प्रयोग भी काफी किया जाता हैं क्योंकि लोहे के बर्तन सस्ते और टिकाऊ होते हैं| इन बर्तनों में पकाए भोजन में आयरन की मात्रा अपने आप बढ़ जाती है और आपको उसका भरपूर पोषण मिलता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here