एक कपल के एकाउंट में गलती से 86 लाख रुपए आये और उन्होंने वह खर्च कर डाले, तो आइए जानते है खर्च करने के बाद आगे क्या मामला हुआ। क्या खर्च करने के बाद उन्हें कोई सज़ा हुई या उनसे कैसे पैसे वापिस लिए गए। कभी कभी हमसे ऐसी गलती हो जाती है कि जो दूसरों के लिए नुकसानदई और आपके लिए फायदेमंद हो जाती है। आपने कभी सुना होगा कि किसी के अकाउंट में गलती से पैसे आ गए हो। तो आप इस केस में बैंक को सूचित कर सकते हैं। परंतु आज के समय में सबके लिए पैसा बहुत ज़रूरी हो गया है कुछ लोग तो पैसों के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं।

बहुत से लोग तो लालच में आ जाते हैं और वो बैंक को बताना ज़रूरी नहीं समझते। वह कपल भी इन लोगो में से ही एक हैं। जब बैंक द्वारा इनके बैंक अकाउंट में गलती से 86 लाख रुपए डाले गए तो उनकी खुशी का ठिकाना ना रहा। और उन्होंने बैंक वालो को सूचित तक नहीं किया। जिस असली शक्स के अकाउंट में पैसा जाना था उस शक्स ने बैंक वालो से संपर्क किया और कहा कि जितना पैसा उसके एकाउंट में आना चाहिए उतना नही आया है तब बैंक वालो ने रिचेक किया और उन्हें पता लगा कि 86 लाख गलती से 1 कपल के बैंक एकाउंट में चले गए हैं। बैंक ने उस कपल के पास जब फ़ोन किया तो पहले उन्होंने उठाया नही। बार बार फ़ोन करने पर उनका जवाब आया कि हमने वो पैसे खर्च कर दिए। फिर उनसे और भी जानकारी ली गयी तो उन्होंने कहा कि हमने 1-2 गाड़ी ली हैं और कुछ रूपए अपने दोस्तो को भी दिए हैं और हमारी ज़रूरत का सामान ले लिया हैं और हमारे ऊपर जितना कर्ज़ था सब उतार दिया है तो अब उनके पास कोई पैसा नही हैं। तो इसी की चलते ये केस कोट तक पहोचा।

परंतु सुनवाई के समय पर वह कपल वहाँ नही पहोंचे। उन्होंने पैसा वापिस ना करने के कारण पोलिस को बहुत घुमाया। लेकिन अंत में वे कोर्ट में पहोंचे और उन्होंने अपनी गलती स्वीकार कर कहा कि हम लोग गलत सोच में पड़ गए थे हमने अपने दोस्त से बात की और उसने बताया कि ये सब चीजें कानूनी जुर्म हैं और कहा कि हम अपनी गलती स्वीकार करते हैं। उन्होंने कहा कि हम बैंक के साथ समझौता कर लेंगे तो फिलाल समझौता जारी हैं। यह बात BBNT बैंक स्तिथ मोंटाओउस वेले की है। बात बैंक पर भी आई हैं, बैंक वालो से भी गलती हुई है उन्हें पैसे गलत एकाउंट में नही डालने चाहिए थे या फिर बाद में सूचित भी कर सकते थे। अभी कार्यवाई जारी हैं कि वो लोग पैसे को वापिस कैसे लौटाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here