मामला राजगढ़ के ब्यावरा का है। यहां ब्लड बैंक में खून की काफी कमी चल रही है। जिसकी वजह से मरीजों को बहुत दिक्कत हो रही है। हाल ही में वहां पर दो बच्चों की हालत बहुत नाजुक हो गई। उनके अंदर खून की बहुत कमी हो गयी मगर ब्लड बैंक में खून न होने की वजह से वहां के स्टाफ ने ही उन्हें ब्लड डोनेट किया।

एक और ऐसा ही मामला सामने आया है। ये मामला है खजुरिया गांव का। यहाँ की रहने वाली कविता दागी को बी पॉज़िटिव ब्लड की बहुत जरूरत थी। पर ब्लड बैंक में खून नहीं था और न ही किसी परिवार के सदस्य से उनका ब्लड ग्रुप मैच हुआ। फिर उस ब्लड बैंक के हेड को इसकी खबर दी गई, उन्हें कुछ समझ नहीं आया उन्होंने व्हाट्सएप पर इस मैसेज को अधिक से अधिक वायरल कर दिया जिसकी वजह से ये मैसेज वहां की कलेक्टर निधि निवेदिता के पास पहुंच गया।

निधि मैसेज पढ़ने के बाद ब्लड बैंक गईं और उन्होंने सारी जानकारी प्राप्त की फिर उन्होंने ब्लड डोनेट किया। उन्होंने ऐसा करने के लिए एक बार भी नहीं सोचा क्योंकि उनका भी ब्लड ग्रुप बी पॉज़िटिव है। उन्होंने बताया कि उनका इस तरफ कभी ध्यान नहीं गया मगर उनका ब्लड डोनेशन की तरफ रुझान होना चाहिए।

उन्होंने बताया कि, “मैं एक कैंप चलाने वाली हूँ ताकि आगे से हमारे क्षेत्र में ऐसी किसी भी तरह की कोई प्रॉब्लम ना हो। हमें लगता है की हर एक इंसान को जिंदगी में खून डोनेट जरुर करना चाहिए क्योंकि हम जितना खून डोनेट करते है उतना ही हमारे अंदर और खून बन जाता है। ऐसे में ब्लड डोनेट करने में किसी भी तरह की ढील नहीं बरतनी चाहिए। मैं सभी से यह प्रार्थना करती हूँ की सभी को ब्लड डोनेट करना चाहिए।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here