जैसा कि आप सभी जानते हैं कि इस समय पितृपक्ष का महीना चल रहा है जिसकी शुरुआत 14 सितंबर से हो चुकी है। यह 15 दिनों तक चलता है, जिस में पितरों का श्राद्ध करने का प्रावधान होता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार पितृपक्ष के दौरान विधिपूर्वक पितरों का श्राद्ध करने से, उनकी आत्मा संतुष्ट होती है और और वह अपने बच्चों को सुखी जीवन का आशीर्वाद देते हैं। पित्र पक्ष में पूर्वजों का श्राद्ध करने से उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होती है। साथ ही जो लोग पितृ पक्ष में विधि पूर्वक अपने पूर्वजों को स्टार्ट करते हुए उनके जीवन से पितृ दोष खत्म होता है और उनके जीवन में खुशियां आती है।

शास्त्रों में कुछ ऐसी चीजों का वर्णन किया गया है, जिनका भोग लगाने से, पूर्वजों की आत्मा को संतुष्टि मिलती है और पितृ दोष खत्म होता है। आइए जानते हैं वह कौन सी चीजें हैं, जिन्हें श्राद्ध के भोजन में शामिल करने से शुभ लाभ की प्राप्ति होती है-

1. श्राद्ध का भोजन बनाते समय इस बात का ख्याल ख्याल रखना चाहिए कि जो भी पकवान आप बनाएं वह आपके पितरों की पसंद का होना चाहिए। उनकी पसंद के पकवान से भोग लगाने पर वह प्रसन्न होते है। और भोग लगाने वाले व्यक्ति के जीवन में भी खुशियां आती है।

2. भोजन बनाते समय जौ, मटर और सरसों का उपयोग अधिक से अधिक मात्रा में करे। यह पितृदोष को कम करने में कारगर होता है।

3. जब भी आप भूख लगाने जाए तो गंगाजल, दूध, शहद व तिल का इस्तेमाल अवश्य करे।

4. कोशिश करें कि भोग लगाने के लिए, सोने, चांदी कांस्य और तांबे के बर्तन का इस्तेमाल करें।

5. भूलकर भी केले के पत्ते पर श्राद्ध के भोजन का भोग नहीं लगाना चाहिए।

ये भी पढ़िए-

1. पितृपक्ष में यदि सपने में दिखाई दे आपके पूर्वज, तो समझ ले भगवान आपको दे रहे हैं इस बात का संकेत

2. पितृ पक्ष में भूलकर भी ना करें यह काम अन्यथा होगा भारी नुकसान

6. श्राद्ध के भोजन में कभी भी चना, मसूर, उड़द, कुलथी, सत्तू, मूली, काला जीरा, कचनार, खीरा, काला उड़द, काला नमक, लौकी, बड़ी सरसों, काली सरसों की पत्ती और बासी खराब अन्न नही रखना चाहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here