‘कृपया मेट्रो के फर्श पर न बैठें’, ये वो लोग बखूबी जानते होंगे जो रोजाना मेट्रो से सफर करते हैं। इस अनाउंसमेंट को सुनते तो सब लोग हैं मगर कुछ ही लोग हैं जो इस बात को मानते हैं। मगर मेट्रो के फर्श पर बैठने से आप नियमों का उल्लंघन करते हैं। तो आज जान लीजिए की मेट्रो के फ्लोर पर न बैठने के पीछे वजह क्या है-

1.आपके नीचे बैठने से आने जाने वाले लोगों को दिक्कत झेलनी पड़ सकती है। उन्हें आने जाने में समस्या हो सकती है।

2.नीचे बैठने से मेट्रो के ओवरलोड होने की भी समस्या हो सकती है। क्योंकि वैसे तो सिर्फ उतने ही लोग मेट्रो में रहेंगे जितनी कि सीट्स हों मगर नीचे बैठने से लोगों की संख्या बढ़ जाती है और ओवरलोड का खतरा बढ़ जाता है।

3.मान लीजिये नीचे बैठकर आप पैर फैला लेते हैं तो आपके पैर में फंसकर और यात्री गिर भी सकते हैं।

4.मेट्रो के कोच को प्रति वर्ग मीटर 25 लोगों के लिए बनाया गया है ये ट्रेन के बैलेंस को ध्यान में रखते हुए किया गया है क्योंकि ट्रेन जब घुमावदार एलिवेटेड ट्रैक पर होती है, तो इससे समस्या खड़ी होती है और इसलिए ट्रेन की स्पीड कम करनी पड़ती है।


5.मेट्रो के आने पर लोग जल्दबाजी में मेट्रो में घुसते हैं इसीलिए नीचे बैठे लोगों को चोट भी लग सकती है।

ये भी पढ़िए-

1. सुपर 30 के संस्थापक बिहार के आनंद कुमार US में छा गए, मिला ये पुरस्कार

2. अनुष्का शर्मा ने मारी बाजी, देश की 50 सबसे शक्तिशाली महिलाओं की लिस्ट में शामिल हुआ इनका भी नाम

6.सफाई करने वालों को सफाई करने में दिक्कत होती है अगर आप नीचे बैठे रहते हैं तो।

7.मेट्रो की फर्श पर जितनी जगह पर एक व्यक्ति बैठता है उतनी जगह में तीन व्यक्ति आराम से खड़े हो सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here